data compression explaination in hindi

Data compression क्या होता है? | What is data compression in hindi

पोस्ट को share करें-

Data compression का इस्तेमाल, data compression uses in hindi, data compression technology, data compression techniques, data compression के फायदे और नुकसान, data compression in multimedia, how to do data compression.

आज के समय में हमारे आस-पास सिर्फ और सिर्फ data भरा हुआ है। यह हर जगह किसी न किसी रूप में मौजूद है, और इसे  लगातार कही भेजना या कही से receive करना पड़ता है, ताकि ये data हमारे काम में आ सके। क्युकि आज data काफी बड़ी संख्या में store होते है, तो ये काफी जरूरी हो जाता है की इनके size को कम किया जाए, ताकि इन्हें कही भेजने और कही से receive करने में काफी सहूलियत हो।

तो आज हम वैसी ही एक टेक्नोलॉजी की बात करने जा रहे है, जिसकी मदद से ये काम किया जाता है। इसे data compression कहा जाता है। तो आइए जानते है इसके बारे में कुछ ऐसी बाते, जो शायद ही आपको मालूम हो।

Data compression और उसका इस्तेमाल है?

यह एक process है , जिसकी मदद से किसी data को इस तरीके से बदला और encode किया जाता है, की उसको store करने में काफी कम जगह की जरुरत पड़े। इसकी मदद से काफी बड़े data set के elements को एक साथ छोटा बनाया जा सकता है, ताकि उसके फाइल size को कम किया जा सके। इसमें कई तरह के तकनीक जैसे audio compression, video compression, इत्यादि का इस्तेमाल होता है। Data compression को source coding और bit-rate reduction भी कहा जाता है।

एक आम तौर पे इस्तेमाल होने वाली data reduction टेक्निक से किसी data में मौजूद repetitive files यानि duplicate files और data में इस्तेमाल हुए symbols को हटा दिया जाता है, ताकि उस data के फाइल size को कम किया जा सके। किसी graphical data को दो तरीकों से compress किया जाता है, जो की है lossless compression या lossy compression, जहा पहले सारे repetitive data को save किया जाता है, मगर बाद में उन सब को फाइल से हटा दिया जाता है।

एक compress फाइल को काफी कम size का होना चाहिए ताकि उसे इस्तेमाल करने में कोई परेशानी न हो। उदाहरण के लिए हम जब कोई भी song डाउनलोड करते है, तो वह song अलग-अलग size का होता है, जैसे की (10mb,5mb, 3mb)। size के इतना कम होने के कारण ही हम तेजी से इस फाइल को download कर पते है। compress files दो अलग-अलग प्रकार के होते है।

Data compression किस-किस तरह के data पर किया जाता है?

Data compression का इस्तेमाल कई तरह के data पर किया जाता है, जैसे की – 

Image compression 

इसमें किसी image फाइल को इस प्रकार compress किया जाता है, ताकि उसे कही पर आसानी से भेजा जा सके। इसका इस्तेमाल करने से कोई image फाइल का size काफी हद तक कम किया जा सकता है। इसमें दो तरह के compression तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है, जो है lossless या फिर loosy type compression। Image की quality इस बात पर depend करती है, की उसे किस तरीके से compress किया गया है।

इसमें एक image फाइल में से duplicate elements को हटा दिया जाता है , ताकि उसके size को कम किया जा सके। आज इसका इस्तेमाल कई जगहों पर होता है। उदाहरण के अक्सर हमे किसी website पर किसी image को upload करने के लिए उसके size को पहले कम करना पड़ता है, तभी जाकर उसे upload किया जा सकता है। इसे ही image को compress करना कहते है।

Audio compression

ये एक तरह का lossless या loosy compression होता है, जिसमे wave के रूप में store किए हुए ऑडियो data को compress करके छोटे size का बनाया जाता है, ताकि उसे दूर तक transmit किया जा सके। यहाँ data को इस तरह compress किया जाता है, ताकि उसके quality पर कोई फर्क ना परे। इनका इस्तेमाल CD में data को store करने के लिए, MP3 में data को encode करने के लिए, या फिर internet रेडियो में किया जाता है। 

Audio level compression को dynamic range compression भी कहा जाता है। इसके इस्तेमाल से किसी ऑडियो wave के loud और quite रूप को काफी हद तक कम किया जा सकता है। आज हम जो भी गाने internet से download करते है, उन सब को इस तकनीक की मदद से compress किया जाता है, ताकि उनके size को कम रखा जा सके।

Video compression 

यह एक तकनीक होती जिसकी मदद से किसी video फाइल को इस प्रकार encode किया जाता है, ताकि यह खुद के original size से काफी कम size का बन जाए, ताकि इससे बेहद कम space में store किया जा सके। ताकि बाद में इन files को internet और networking की सहायता से काफी दूर तक आसानी से भेजा जा सके।

यह एक प्रकार की compression तकनीक होती है, जिसकी मदद से किसी video के duplicate data और non-functional data, यानी वह data जिसका ज्यादा इस्तेमाल न होता हो, उन सब को video से हटा दिया जाता है, ताकि video के size को कम किया जा सके। एक बार video के compress होने के बाद, उसका format भी बदल जाता है। video का नया format उस code पर depend करता है, जिसकी सहायता से video को compress किया गया हो। 

Data compression के प्रकार? (Types of data compression in hindi)

Data compression अलग-अलग प्रकार के होते है, जो की है –

Lossless compression

इस  compression तकनीक में data के size को इस तरह घटाया जाता है, जिससे कि data को किसी तरह की हानि नही होती है, और उसकी quality भी ख़राब नही होती है। अर्थात् हम decompressed करके वापस data के exact साइज़ और quality में वापस पा सकते है। इस तरह के compression का उपयोग आम तौर पर उन data files पर किया जाता है, जिनमे data text के रूप में store होते है।

Lossy compression

इस तरह के compression का इस्तेमाल करने पर data को हानि होती है। अर्थात इस data को decompress करने पर इसे वापस नही पाया जा सकता और ये हमेशा के लिए delete हो जाती है। इस compression का प्रयोग ज्यादातर image,ऑडियो, और ग्राफ़िक्स data में किया जाता है। जो data ज्यादा जरूरी नही होती, उस data पर इस तरीके का इस्तेमाल किया जाता है। 

Data compression को इस्तेमाल करने के फायदे? (Advantages of data compression in hindi)

Data compression को इस्तेमाल करने के काफी सारे फायदे होते है, जिनमे से कुछ है –

  • इसका इस्तेमाल करने पर कम disk space में ज्यादा से ज्यादा data को store किया जा सकता है।
  • इसकी मदद से किसी data को read या write करना काफी ज्यादा आसान हो जाता है।
  • इसके इस्तेमाल पर किसी फाइल को काफी तेजी से transfer किया जा सकता है।
  • Files को compress करने पर वह काफी ज्यादा dynamic बन जाते है, और उन्हें काफी आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। इत्यादि।

Data compression को इस्तेमाल करने के नुकसान? (Disadvantages of data compression in hindi)

Data compression को इस्तेमाल करने के काफी सारे नुकसान भी होते है, जिनमे से कुछ है –

  • Compress files को receive करने के बाद, उन सब को decompress करना पड़ता है।
  • कभी-कभी transfer के दौरान files में काफी तरह की error यानि खराबी आने की काफी संभावना होती है।
  • इसका इस्तेमाल करने पर फाइल में pixel और bytes का relationship कभी-कभार पता नही चल पता।
  • ये तकनीक simple files को भी काफी ज्यादा complicated बना देती है। इत्यादि।

Data compression के लिए इस्तेमाल होने वाले softwares? (Softwares used for data compression in hindi)

किसी data file को compress करने के लिए कई तरह के softwares का इस्तेमाल किया जाता है, जिनमे से कुछ है –

WinZip

यह एक data को compress या zip करने का tool है, जिसकी मदद से किसी बड़े files को भी आसानी से zip किया जा सकता है। साथ ही साथ उन zip किये हुए files को email के जरिए भी किसी को भेज जा सकता है।  इसमें files को हाई encryption के साथ protected रखा जा सकता है। इसमें files को password लगाकर भी safe रखा जा सकता है। ये software सारे major फाइल formats को unzip कर सकता है, जैसे की  zip, gzip tar, rar, cab, इत्यादि।

WinRAR

WinRAR एक zip software है, जिसका इस्तेमाल ZIP और RAR archives बनाने के लिए किया जाता है। इस software में archives पर text comments भी add किया जा सकता है। ये software खुद ही फाइल का आकलन करके, उसके लिए सही compression तकनीक choose कर लेती है। इसकी मदद से files को काफी जल्दी compress किया जा सकता है, और यह disk में data को  store करने के space को बचाने में काफी मदद करती है। ये tool 50 से भी ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध है।

Ashampoo Zip Free 

यह एक काफी easy compression tool है, जिसकी मदद से files को compress या zip किया जाता है। यह काफी तरह के formats को support करती है, जैसे की  7-ZIP, LHA, TAR, CAB, इत्यादि। ये अपने users के लिए एक काफी अच्छा user-friendly ग्राफिकल interface उपलब्ध कराती है। इसके अंदर compress किये हुए files को देखने की भी सुविधा मौजूद होती है। साथ ही साथ ये RAR format को भी support करती है।

7-zip

यह एक काफी प्रसिद्ध open-source compression software है , जिसका इस्तेमाल करके files को compress किया जाता है। यह software data को safe रखने के लिए काफी मजबूत encryption तकनीक का इस्तेमाल करती है। इस tool को business और commercial sector में काफी ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। इस tool में एक फाइल manager होता है, जो सारी files को manage करने में काफी ज्यादा सहायता करता है। यह काफी formats को support करती है, जैसे की  7z, GZIP, XZ, और BZIP2.।  इत्यादि।

FAQ (Frequently Asked Questions)

Q. Data compression के अलग-अलग तरीके क्या है?

A. Data compression तकनीक को दो भागों में बांटा गया है, जो की है – lossy compression और lossless compression। लेकिन डेटा को compress करने के लिए ज्यादातर lossless compression का ही इस्तेमाल किया जाता है।

Q. Data compression के अलग-अलग formats क्या है?

A. डेटा compression के कई तरह के अलग-अलग formats होते है, जिनमे से कुछ है – RAR, ZIP, MP3, आदि।

Q. डिजिटल तकनीकों में डेटा compression का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

A. इसका इस्तेमाल, किसी भी डेटा फाइल के size को कम करने के लिए किया जाता है, ताकि हम उन्हें अच्छी quality में कम से कम जगह में स्टोर कर सके।

आशा करता हूं कि आज आपलोंगों को कुछ नया सीखने को ज़रूर मिला होगा। अगर आज आपने कुछ नया सीखा तो हमारे बाकी के आर्टिकल्स को भी ज़रूर पढ़ें ताकि आपको ऱोज कुछ न कुछ नया सीखने को मिले, और इस articleको अपने दोस्तों और जान पहचान वालो के साथ ज़रूर share करे जिन्हें इसकी जरूरत हो। धन्यवाद।

Also read –

जाने क्या होती है cloud computing, और क्या है इसका इस्तेमाल?

गूगल द्वारा बनाया गया एक अनोखा एप्लीकेशन Socratic


पोस्ट को share करें-

Similar Posts

2 Comments

  1. Wow, incredible blog layout! How long have you been blogging for?
    you make blogging glance easy. The total look of your website is magnificent, let alone the content!
    You can see similar: sklep and here sklep online

    Visit my web site: sklep

  2. Nice post. I was checking constantly this blog and I’m impressed!
    Very helpful information specifically the last part 🙂 I care for such
    info much. I was looking for this particular information for a long
    time. Thank you and best of luck. I saw similar here: sklep online and also here: sklep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *