Tribals Dikus and the Vision of a Golden Age Summary in hindi

Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age विषय की जानकारी, कहानी | Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age Summary in hindi

पोस्ट को share करें-

Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age notes in hindi, इतिहास (history) में आदिवासी, दिकु और स्वर्ण युग की परिकल्पना के बारे में जानकारी, History class 8 Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age in hindi, इतिहास के चैप्टर Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age की जानकारी, class 8 History notes, NCERT explanation in hindi, Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age explanation in hindi, आदिवासी, दिकु और स्वर्ण युग की परिकल्पना के notes.

क्या आप एक आठवी कक्षा के छात्र हो, और आपको NCERT के History ख़िताब के chapter “Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age” के बारे में सरल भाषा में सारी महत्वपूर्ण जानकारिय प्राप्त करनी है? अगर हा, तो आज आप बिलकुल ही सही जगह पर पहुचे है। 

आज हम यहाँ उन सारे महत्वपूर्ण बिन्दुओ के बारे में जानने वाले जिनका ताल्लुक सीधे 8वी कक्षा के इतिहास के chapter “Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age” से है, और इन सारी बातों और जानकारियों को प्राप्त कर आप भी हजारो और छात्रों की तरह इस chapter में महारत हासिल कर पाओगे।

साथ ही हमारे इन महत्वपूर्ण और point-to-point notes की मदद से आप भी खुदको इतना सक्षम बना पाओगे, की आप इस chapter “Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age” से आने वाली किसी भी तरह के प्रश्न को खुद से ही आसानी से बनाकर अपने परीक्षा में अच्छे से अच्छे नंबर हासिल कर लोगे।

तो आइये अब हम शुरु करते है “Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age” पे आधारित यह एक तरह का summary या crash course, जो इस topic पर आपके ज्ञान को बढ़ाने के करेगा आपकी पूरी मदद।

Tribals, Dikus and the Vision of a Golden Age Summary in hindi

इस अध्याय में, छात्र आदिवासियों, दिकुओं (Dikus) आदि से संबंधित कुछ प्रश्न पढ़ेंगे। पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न हैं कि बिरसा ने किन समस्याओं को हल करने की योजना बनाई थी? साथ ही हम जानेंगे की डिकस (Dikus) कहे जाने वाले बाहरी लोग कौन थे और उन्होंने क्षेत्र के लोगों को कैसे गुलाम बनाया? साथ ही हम जानेंगे अंग्रेजों के अधीन आदिवासियों के साथ क्या हो रहा था? और उनका जीवन कैसे बदल गया?

जनजातीय समूह कैसे रहते थे? 

19वीं सदी तक भारत के आदिवासी लोग विभिन्न प्रकार की गतिविधियों में शामिल थे।

कुछ झूम कृषक थे (Jhum Cultivators)

कुछ आदिवासी लोग झूम खेती खेती करते थे। यह खेती भूमि के छोटे-छोटे टुकड़ों पर की जाती है, और पौधे लगाने वाले सूरज की रोशनी को जमीन तक पहुंचने देने के लिए पेड़ों की चोटी को काट देते हैं और खेती के लिए इसे साफ करने के लिए वनस्पति को जला देते हैं। 

फसल तैयार होने और कटने के बाद उन्हें दूसरे खेत में स्थानांतरित कर दिया गया। स्थानांतरण कृषक उत्तर-पूर्व और मध्य भारत के पहाड़ी और जंगली इलाकों में पाए जाते थे। ये आदिवासी लोग जंगलों में स्वतंत्र रूप से घूमते थे, और यही कारण है कि वे झूम खेती करते थे।

कुछ शिकारी और संग्रहणकर्ता थे (hunters and gatherers)

कई क्षेत्रों में जनजातीय समूह जानवरों का शिकार करके और वन उपज इकट्ठा करके जीवित रहते थे। खोंड एक ऐसा समुदाय था, जो सामूहिक शिकार पर ही जीवित रहता था और मांस को आपस में बांट लेता था। 

यह समुदाय फल और पेड़ की जड़ें खाता था और भोजन पकाने के लिए साल और महुआ के बीजों से निकाले गए तेल का उपयोग करता था। साथ ही औषधीय प्रयोजनों के लिए जंगलों से झाड़ियों और जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता था।

ये वनवासी अपनी बहुमूल्य वन उपज के बदले में अपनी ज़रूरत की चीज़ों के साथ वस्तुओं का आदान-प्रदान करते थे। जब जंगल की उपज कम हो गई तो आदिवासियों को मज़दूर के रूप में काम की तलाश में बाहर भटकना पड़ा। 

जनजातीय समूह व्यापारियों और साहूकारों पर निर्भर थे क्योंकि उन्हें अक्सर उन वस्तुओं को खरीदने और बेचने के लिए धन की आवश्यकता होती थी, जिनका उत्पादन इलाके में नहीं होता था। लेकिन, ऋण पर लिया जाने वाला ब्याज बहुत अधिक था।

कुछ चरवाहे थे (herded animals)

कई जनजातीय समूहों के लिए पशुपालन और पालन-पोषण भी एक व्यवसाय था। वे चरवाहे थे, जो मौसम के अनुसार अपने मवेशियों या भेड़ों के झुंड के साथ घूमते थे।

कुछ लोगों ने स्थाई खेती करना शुरू कर दिया (settled cultivation)

19वीं सदी से पहले ही जनजातीय समूह बसने लगे थे। छोटानागपुर के मुंडाओं की भूमि समग्र रूप से उनके कबीले की थी। कबीले के सभी सदस्यों को मूल निवासियों के वंशज माना जाता था, जिन्होंने सबसे पहले भूमि को साफ किया था। ब्रिटिश अधिकारी बसे हुए जनजातीय समूहों को शिकारी-संग्रहकर्ता या स्थानांतरित कृषकों की तुलना में अधिक सभ्य मानते थे।

औपनिवेशिक शासन ने जनजातीय जीवन को कैसे प्रभावित किया?

ब्रिटिश शासन के दौरान जनजातीय लोगों का जीवन काफी बदल गया।

आदिवासी मुखियाओं का क्या हुआ? (tribal chiefs)

अंग्रेजों के आने से पहले, आदिवासी मुखिया महत्वपूर्ण लोग थे। उन्हें आर्थिक शक्ति प्राप्त थी और उन्हें अपने क्षेत्रों का प्रशासन और नियंत्रण करने का अधिकार था। लेकिन, ब्रिटिश शासन के तहत उनके कार्य और शक्तियाँ बदल गईं। उन्होंने अपनी प्रशासनिक शक्तियाँ खो दीं और उन्हें भारत में ब्रिटिश अधिकारियों द्वारा बनाए गए कानूनों का पालन करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

स्थानान्तरित कृषकों का क्या हुआ? (shifting cultivators)

अंग्रेज चाहते थे कि आदिवासी समूह बस जाएँ क्योंकि बसे हुए किसानों को नियंत्रित करना और प्रशासन करना आसान था। अंग्रेजों ने राज्य के लिए नियमित राजस्व स्रोत प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त की शुरुआत की। 

भूमि बंदोबस्त का अर्थ है कि अंग्रेजों ने भूमि को मापा, उस भूमि पर प्रत्येक व्यक्ति के अधिकारों को परिभाषित किया और राज्य के लिए राजस्व की मांग तय की। झूम (Jhum) किसानों को बसाने का ब्रिटिश प्रयास बहुत सफल नहीं रहा। व्यापक विरोध का सामना करते हुए, अंततः अंग्रेजों को उन्हें जंगल के कुछ हिस्सों में झूम खेती करने का अधिकार देना पड़ा।

वन कानून और उनका प्रभाव (Forest laws and their impact)

वन कानूनों में बदलाव का सीधा असर जनजातीय जीवन पर पड़ा। कुछ वनों को आरक्षित वनों के रूप में वर्गीकृत किया गया था, क्योंकि वे लकड़ी का उत्पादन करते थे जो अंग्रेज चाहते थे। अंग्रेज़ों ने आदिवासियों को जंगलों में जाने से तो रोक दिया, लेकिन उनके सामने मज़दूर लाने की समस्या आ गई। इसलिए, औपनिवेशिक अधिकारी एक समाधान लेकर आए। 

औपनिवेशिक अधिकारियों ने झूम किसानों को जंगलों में जमीन के छोटे टुकड़े देने और उन्हें खेती करने की अनुमति देने का फैसला किया। बदले में गाँवों में रहने वालों को वन विभाग को मज़दूरी उपलब्ध करानी पड़ती थी। कई जनजातीय समूहों ने नए नियमों की अवज्ञा की, अवैध घोषित की गई प्रथाओं को जारी रखा और कभी-कभी खुले विद्रोह में भी खड़े हुए।

व्यापार में समस्या (The problem with trade)

19वीं सदी के दौरान, व्यापारी और साहूकार अक्सर जंगलों में आने लगे। वे वन उत्पाद खरीदना चाहते थे, नकद ऋण की पेशकश करते थे, और आदिवासी समूहों को सदियों तक काम करने के लिए कहते थे। 

18वीं शताब्दी में यूरोपीय बाज़ारों में भारतीय रेशम की माँग बहुत अधिक थी। रेशम बाजार का विस्तार हुआ, इसलिए ईस्ट इंडिया कंपनी ने रेशम उत्पादन को प्रोत्साहित किया। हज़ारीबाग़ के संथाल लोग कोकून पालते थे, और रेशम का व्यापार करने वाले व्यापारी जनजातीय लोगों को ऋण देते थे और कोकून एकत्र करते थे। उस समय बिचौलियों ने भी खूब मुनाफा कमाया। 

काम की तलाश (The search for work)

19वीं सदी के उत्तरार्ध से, चाय के बागान उगने लगे और खनन (mining) एक महत्वपूर्ण उद्योग बन गया। असम के चाय बागानों और झारखंड की कोयला खदानों में काम करने के लिए आदिवासियों को बड़ी संख्या में भर्ती किया गया।

एक करीबी निगाह

देश के विभिन्न हिस्सों के जनजातीय समूहों ने कानूनों में बदलाव, उनकी प्रथाओं पर प्रतिबंध, उन्हें भुगतान करने वाले नए करों और व्यापारियों और साहूकारों द्वारा शोषण के खिलाफ विद्रोह किया।

बिरसा मुंडा (Birsa Munda)

बिरसा मुंडा का जन्म 1870 के दशक के मध्य में हुआ था, और एक किशोर के रूप में, उन्होंने अतीत के मुंडा विद्रोह की कहानियाँ सुनीं और समुदाय के सरदारों (नेताओं) को लोगों से विद्रोह करने का आग्रह करते देखा। स्थानीय मिशनरी स्कूल में उन्होंने सुना कि मुंडाओं के लिए स्वर्ग का राज्य प्राप्त करना और अपने खोए हुए अधिकार वापस पाना संभव है। 

बिरसा ने कुछ समय एक प्रमुख वैष्णव उपदेशक की संगति में भी बिताया। बिरसा ने तब एक आन्दोलन चलाया और इसका उद्देश्य आदिवासी समाज में सुधार लाना था। उन्होंने मुंडाओं से शराब पीना छोड़ने, अपने गांव को साफ़ करने और जादू-टोने में विश्वास करना बंद करने का आग्रह किया।

1895 में उन्होंने अपने अनुयायियों से अपने गौरवशाली अतीत को पुनः प्राप्त करने का आग्रह किया। उन्होंने अतीत के स्वर्ण युग की बात की – एक सतयुग (सच्चाई का युग) – जब मुंडा एक अच्छा जीवन जीते थे, तटबंधों का निर्माण करते थे, प्राकृतिक झरनों का दोहन करते थे, पेड़ और बगीचे लगाते थे, और अपनी आजीविका कमाने के लिए खेती करते थे।

बिरसा आंदोलन का राजनीतिक उद्देश्य मिशनरियों (missionaries), साहूकारों, हिंदू जमींदारों और सरकार को बाहर निकालना और बिरसा के नेतृत्व में मुंडा राज की स्थापना करना था। यह आंदोलन व्यापक था, इसलिए ब्रिटिश अधिकारियों ने इस पर कार्रवाई करने का निर्णय लिया। 

बिरसा ने लोगों को जगाने के लिए पारंपरिक प्रतीकों और भाषा का उपयोग करके समर्थन हासिल करने के लिए गांवों का दौरा करना शुरू कर दिया, और उनसे “रावण” (Dikus और  Europeans) को नष्ट करने और उनके नेतृत्व में एक राज्य स्थापित करने का आग्रह किया।

1900 में बिरसा की हैजा (cholera) से मृत्यु हो गई और आंदोलन फीका पड़ गया। लेकिन, यह आंदोलन कम से कम दो मायनों में महत्वपूर्ण था। पहला- इसने औपनिवेशिक सरकार को ऐसे कानून लाने के लिए मजबूर किया ताकि आदिवासियों की जमीन पर डिकस (Dikus) आसानी से कब्जा न कर सकें। दूसरा- इससे एक बार फिर पता चला कि आदिवासी लोगों में अन्याय का विरोध करने और औपनिवेशिक (colonial) शासन के खिलाफ अपना गुस्सा व्यक्त करने की क्षमता है।

FAQ (Frequently Asked Questions)

बिरसा मुंडा कौन थे?

बिरसा मुंडा एक भारतीय आदिवासी स्वतंत्रता सेनानी, धार्मिक नेता और लोक नायक थे जो मुंडा जनजाति से थे।

संग्राहक (Gatherer) का क्या अर्थ है?

संग्राहक वह होता है जो किसी विशेष वस्तु को इकट्ठा करता है, और उन्हें ही ‘संग्रहकर्ता’ कहा जाता है।

कुछ चरवाहे जानवरों के नाम बताइये।

कई जानवर स्वाभाविक रूप से समूहों में एक साथ रहते हैं और यात्रा करते हैं जिन्हें झुंड कहा जाता है। उदाहरण के लिए, बकरियां, भेड़ और लामा सुरक्षा के तौर पर झुंड में रहते हैं।

आशा करता हूं कि आज आपलोंगों को कुछ नया सीखने को ज़रूर मिला होगा। अगर आज आपने कुछ नया सीखा तो हमारे बाकी के आर्टिकल्स को भी ज़रूर पढ़ें ताकि आपको ऱोज कुछ न कुछ नया सीखने को मिले, और इस articleको अपने दोस्तों और जान पहचान वालो के साथ ज़रूर share करे जिन्हें इसकी जरूरत हो। धन्यवाद।

Also read –

Class 8 CBSE NCERT Notes in hindi

From Trade to Territory Summary in hindi


पोस्ट को share करें-

Similar Posts

4 Comments

  1. Raz Vape offers a premium selection of vape juices, specializing in refreshing raspberry flavors. With a wide range of nicotine strengths, our products cater to both beginner and experienced vapers alike.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *