From Trade to Territory summary in hindi

From Trade to Territory विषय की जानकारी, कहानी | From Trade to Territory Summary in hindi

पोस्ट को share करें-

From Trade to Territory notes in hindi, इतिहास (history) में व्यापार से क्षेत्र तक के बारे में जानकारी, History class 8 From Trade to Territory in hindi, इतिहास के चैप्टर From Trade to Territory की जानकारी, class 8 History notes, NCERT explanation in hindi, From Trade to Territory explanation in hindi, व्यापार से क्षेत्र तक के notes.

क्या आप एक आठवी कक्षा के छात्र हो, और आपको NCERT के History ख़िताब के chapter “From Trade to Territory” के बारे में सरल भाषा में सारी महत्वपूर्ण जानकारिय प्राप्त करनी है? अगर हा, तो आज आप बिलकुल ही सही जगह पर पहुचे है। 

आज हम यहाँ उन सारे महत्वपूर्ण बिन्दुओ के बारे में जानने वाले जिनका ताल्लुक सीधे 8वी कक्षा के इतिहास के chapter “From Trade to Territory” से है, और इन सारी बातों और जानकारियों को प्राप्त कर आप भी हजारो और छात्रों की तरह इस chapter में महारत हासिल कर पाओगे।

साथ ही हमारे इन महत्वपूर्ण और point-to-point notes की मदद से आप भी खुदको इतना सक्षम बना पाओगे, की आप इस chapter “From Trade to Territory” से आने वाली किसी भी तरह के प्रश्न को खुद से ही आसानी से बनाकर अपने परीक्षा में अच्छे से अच्छे नंबर हासिल कर लोगे।

तो आइये अब हम शुरु करते है “From Trade to Territory” पे आधारित यह एक तरह का summary या crash course, जो इस topic पर आपके ज्ञान को बढ़ाने के करेगा आपकी पूरी मदद।

Table of Contents

From Trade to Territory Summary in hindi

क्या आप जानते हैं कि ब्रिटिश मूल रूप से एक छोटी व्यापारिक कंपनी के रूप में भारत आए थे, और क्षेत्रों का अधिग्रहण करने के लिए अनिच्छुक थे? फिर वे एक विशाल साम्राज्य के स्वामी कैसे बन गये? इस अध्याय में आप देखेंगे कि यह कैसे हुआ और यह भी जानेंगे कि “ईस्ट इंडिया कंपनी” कैसे सत्ता में आई, व्यापार का विस्तार कैसे हुआ, व्यापार के लिए नए नियम कैसे लागू किए गए, और प्लासी की लड़ाई आदि के बारे में भी आप इस चैप्टर में जानेंगे।

अंतिम शक्तिशाली मुगल शासक औरंगजेब था, और साल 1707 में उसकी मृत्यु के बाद, कई मुगल गवर्नर (सूबेदारों) और बड़े जमींदारों ने अपने अधिकार का दावा करना और क्षेत्रीय साम्राज्य स्थापित करना शुरू कर दिया। 18वीं शताब्दी के उत्तरार्ध तक, राजनीतिक क्षितिज पर एक नई शक्ति का उदय हुआ, जो थे अंग्रेज़।

ईस्ट इंडिया कंपनी पूर्व में आती है (East India Company Comes East)

सन 1600 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने इंग्लैंड की शासक महारानी एलिजाबेथ प्रथम से एक चार्टर हासिल किया, जिससे कंपनी को पूर्व के साथ व्यापार करने का एकमात्र अधिकार मिल गया। चार्टर के अनुसार, कंपनी कम कीमत पर सामान खरीदने के लिए नई भूमि की तलाश में, महासागरों के पार उद्यम कर सकती थी, और उन्हें उच्च कीमतों पर बेचने के लिए वापस यूरोप ले जा सकती थी। 

पुर्तगालियों ने भारत के पश्चिमी तट पर अपनी उपस्थिति स्थापित की और उनका आधार गोवा में था। 17वीं शताब्दी की शुरुआत तक, डच हिंद महासागर में व्यापार की संभावनाएं तलाश रहे थे, और बहुत जल्द, फ्रांसीसी भी इस दृश्य पर आ गए।

सभी कंपनियाँ एक जैसी चीजें खरीदने में रुचि रखती हैं। कपास, रेशम, काली मिर्च, लौंग, इलायची और दालचीनी की बढ़िया गुणवत्ता की बहुत माँग थी। बाज़ारों को सुरक्षित करने की चाहत के कारण व्यापारिक कंपनियों के बीच भयंकर लड़ाइयाँ हुईं। व्यापार हथियारों के साथ किया जाता था, और व्यापारिक चौकियों को किलेबंदी के माध्यम से संरक्षित किया जाता था।

ईस्ट इंडिया कंपनी ने बंगाल में व्यापार करना शुरू किया (East India Company begins to trade in Bengal)

साल 1651 में पहली अंग्रेजी फैक्ट्री स्थापित की गई। यह वह आधार था जहाँ से कंपनी के व्यापारी, जिन्हें “कारक” (factors) कहा जाता था, संचालन करते थे। कारखाने के गोदाम में निर्यात के लिए सामान रखा जाता था। कंपनी ने 1696 तक बस्ती के चारों ओर एक किला बनवा दिया। कंपनी ने लगातार अधिक रियायतों के लिए दबाव बनाने और मौजूदा विशेषाधिकारों में हेरफेर करने की भी कोशिश की।

कैसे व्यापार ने लड़ाइयों को जन्म दिया (How trade led to battles)

कंपनी और बंगाल के नवाबों के बीच संघर्ष तेज़ हो गया। बंगाल के नवाबों ने कंपनी को रियायतें देने से इनकार कर दिया, कंपनी के व्यापार के अधिकार के लिए बड़ी tributes की मांग की, उसे सिक्के ढालने के अधिकार से वंचित कर दिया और उसे अपनी किलेबंदी का विस्तार करने से भी रोक दिया गया। उन्होंने यह भी दावा किया कि कंपनी बंगाल सरकार को भारी मात्रा में राजस्व से वंचित कर रही थी, और नवाब के अधिकार को कमजोर कर रही थी। इन संघर्षों के कारण टकराव हुआ और अंत में यह प्लासी की प्रसिद्ध लड़ाई में परिणति हुई।

प्लासी का युद्ध (The Battle of Plassey)

सन 1756 में “अलीवर्दी खान” की मृत्यु हो गई और सिराजुद्दौला बंगाल का नवाब बन गया। कंपनी ने सिराजुद्दौला के एक प्रतिद्वंद्वी को नवाब बनने में मदद करने की कोशिश की। जब सिराजुद्दौला को कंपनी की रणनीति के बारे में पता चला, तो उसने उनसे अपने राजनीतिक मामलों में हस्तक्षेप बंद करने, किलेबंदी बंद करने और राजस्व का भुगतान करने को कहा। 

1757 में रॉबर्ट क्लाइव ने प्लासी में सिराजुद्दौला के विरुद्ध कंपनी की सेना का नेतृत्व किया। हार का मुख्य कारण यह था कि मीर जाफ़र के नेतृत्व वाली सेनाओं ने कभी युद्ध नहीं लड़ा था। प्लासी की लड़ाई इसलिए प्रसिद्ध हुई क्योंकि यह भारत में कंपनी की पहली बड़ी जीत थी।

कंपनी का मुख्य उद्देश्य व्यापार का विस्तार करना था। यदि यह स्थानीय शासकों की मदद से बिना विजय के किया जा सकता है, तो क्षेत्रों पर सीधे कब्ज़ा करने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन, जल्द ही कंपनी को पता चला कि यह काफी मुश्किल था। 

1765 में, मुगल सम्राट ने कंपनी को बंगाल प्रांतों का दीवान नियुक्त किया। इसने कंपनी को बंगाल के विशाल राजस्व संसाधनों का उपयोग करने की अनुमति दी। 18वीं सदी की शुरुआत से, भारत के साथ कंपनी का व्यापार बढ़ गया था। भारत से माल ब्रिटेन से आयातित सोने और चाँदी के साथ लाना पड़ता था।

कंपनी के अधिकारी बने नबाब (Company officials become “nabobs”)

प्लासी की लड़ाई के बाद, कंपनी के अधिकारियों ने बंगाल के वास्तविक नवाबों को व्यक्तिगत उपहार के रूप में जमीन और बड़ी रकम देने के लिए मजबूर किया। जब रॉबर्ट क्लाइव ने भारत छोड़ा, तो उनकी भारतीय संपत्ति का मूल्य £401,102 था। 1764 में, उन्हें बंगाल के गवर्नर के रूप में नियुक्त किया गया और कंपनी प्रशासन में भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए कहा गया। 

कंपनी के कई अधिकारी भारत में बीमारी और युद्ध के कारण जल्दी मर गये। कुछ अधिकारी साधारण पृष्ठभूमि से आए थे, और उनकी इच्छा भारत में पर्याप्त कमाई करने, ब्रिटेन लौटने और आरामदायक जीवन जीने की थी। जो लोग धन के साथ लौटने में कामयाब रहे उन्हें “नबाब” कहा जाता था – जो भारतीय शब्द नवाब का अंग्रेजी संस्करण है।

कंपनी नियम का विस्तार (Company Rule Expands)

साल 1757 से 1857 तक ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा भारतीय राज्यों पर कब्जे की प्रक्रिया का विश्लेषण करने पर कुछ प्रमुख पहलू सामने आते हैं।

कंपनी ने शायद ही कभी किसी अज्ञात क्षेत्र पर सीधा सैन्य हमला किया हो। इसने भारतीय साम्राज्य पर कब्ज़ा करने से पहले अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए बारी-बारी से कई तरह के राजनीतिक, आर्थिक और कूटनीतिक तरीकों का इस्तेमाल किया। 

बक्सर की लड़ाई के बाद कंपनी ने भारतीय राज्यों में रेजिडेंट्स (Residents) की नियुक्ति की। वे राजनीतिक या वाणिज्यिक एजेंट थे, और उनका काम कंपनी के हितों की सेवा करना और उन्हें आगे बढ़ाना था।

सहायक गठबंधन का मतलब था कि भारतीय शासकों को अपनी स्वतंत्र सशस्त्र सेना रखने की अनुमति नहीं थी। उन्हें कंपनी द्वारा संरक्षित किया जाना था, लेकिन उन्हें “सहायक बलों” के लिए भुगतान भी करना था, जिन्हें कंपनी को इस सुरक्षा के उद्देश्य से बनाए रखना था। यदि भारतीय शासक भुगतान करने में विफल रहते थे, तो दंड के रूप में उनके क्षेत्र का कुछ हिस्सा छीन लिया जाता था।

टीपू सुल्तान – “मैसूर का बाघ” (Tipu Sultan – The “Tiger of Mysore”)

हैदर अली (जिन्होंने 1761 से 1782 तक शासन किया) और उनके प्रसिद्ध पुत्र टीपू सुल्तान (जिन्होंने 1782 से 1799 तक शासन किया) जैसे शक्तिशाली शासकों के नेतृत्व में मैसूर की ताकत बढ़ गई थी। इसने मालाबार तट के लाभदायक व्यापार को नियंत्रित किया, जहाँ कंपनी काली मिर्च और इलायची खरीदती थी। 

1785 में टीपू सुल्तान ने चंदन, काली मिर्च और इलायची का निर्यात बंद कर दिया। कंपनी ने मैसूर के साथ चार युद्ध (1767-69, 1780-84, 1790-92 और 1799) लड़े। अंततः, आखिरी – सेरिंगपट्टम की लड़ाई में कंपनी ने जीत हासिल की।

मराठों से युद्ध (War with the Marathas)

18वीं शताब्दी के उत्तरार्ध से कंपनी मराठा शक्ति को नष्ट करने की योजना बना रही थी। 1761 में पानीपत की तीसरी लड़ाई में मराठों की हार हुई और दिल्ली से शासन करने का उनका सपना टूट गया। वे सिंधिया, होल्कर, गायकवाड़ और भोंसले जैसे राजवंशों से संबंधित विभिन्न प्रमुखों (सरदारों) के अधीन कई राज्यों में विभाजित थे। इन प्रमुखों को एक पेशवा (प्रधानमंत्री) के अधीन रखा गया, जो पुणे में स्थित इसका प्रभावी सैन्य और प्रशासनिक प्रमुख बन गया।

मराठों को कई युद्धों में शामिल किया गया। पहला युद्ध 1782 में सालबाई की संधि के साथ समाप्त हुआ, इसमें कोई स्पष्ट विजेता नहीं था। दूसरा आंग्ल-मराठा युद्ध (1803-05) विभिन्न मोर्चों पर लड़ा गया, जिसके परिणामस्वरूप अंग्रेजों ने उड़ीसा और आगरा तथा दिल्ली सहित यमुना नदी के उत्तर के क्षेत्रों पर कब्ज़ा कर लिया। अंततः, 1817-19 के तीसरे आंग्ल-मराठा युद्ध ने मराठा शक्ति को कुचल दिया।

सर्वोपरि होने का दावा (The claim to paramountcy)

Paramountcy, एक नई नीति, लॉर्ड हेस्टिंग्स (1813 से 1823 तक गवर्नर जनरल) के तहत शुरू की गई थी। कंपनी का दावा था कि उसकी शक्ति भारतीय राज्यों से अधिक है। 1830 के दशक के अंत में ईस्ट इंडिया कंपनी रूस को लेकर चिंतित हो गई। 

इसकी कल्पना थी कि रूस पूरे एशिया में विस्तार कर सकता है और उत्तर-पश्चिम से भारत में प्रवेश कर सकता है। कंपनी ने 1838 से 1842 के बीच अफगानिस्तान के साथ एक लंबा युद्ध लड़ा और वहां अप्रत्यक्ष कंपनी शासन स्थापित किया। दो लंबे युद्धों के बाद 1849 में पंजाब पर कब्ज़ा कर लिया गया।

चूक का सिद्धांत (The Doctrine of Lapse)

लॉर्ड डलहौजी के अधीन, जो 1848 से 1856 तक गवर्नर-जनरल थे, विलय की अंतिम लहर आई। व्यपगत (The Doctrine of Lapse) का सिद्धांत उनके द्वारा तैयार की गई एक नीति है, जिसमें घोषित किया गया कि यदि कोई भारतीय शासक बिना किसी पुरुष उत्तराधिकारी के मर जाता है, तो उसका राज्य “व्यपगत” (lapse) हो जाएगा, अर्थात कंपनी क्षेत्र का हिस्सा बन जाएगा। 

1856 में कंपनी ने अवध पर अधिकार कर लिया। लेकिन जिस अपमानजनक तरीके से नवाब को अपदस्थ किया गया, उससे क्रोधित होकर अवध के लोग 1857 में हुए महान विद्रोह में शामिल हो गए।

नये प्रशासन की स्थापना (Setting up a New Administration)

वॉरेन हेस्टिंग्स (1773 से 1785 तक गवर्नर-जनरल) ने कंपनी की शक्ति के विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके समय में कंपनी ने बंगाल, बंबई और मद्रास में सत्ता हासिल कर ली थी। ब्रिटिश क्षेत्रों को मोटे तौर पर प्रशासनिक इकाइयों में विभाजित किया गया था जिन्हें प्रेसीडेंसी कहा जाता था। तीन प्रेसीडेंसी थीं: बंगाल, मद्रास और बॉम्बे। 

प्रत्येक पर एक राज्यपाल द्वारा शासन किया जाता था। 1772 में न्याय की एक नई प्रणाली स्थापित की गई। नई प्रणाली के अनुसार, प्रत्येक जिले में दो अदालतें होनी चाहिए – एक आपराधिक अदालत (Faujdari adalat) और एक दीवानी अदालत (diwani adalat)।

ब्राह्मण पंडितों के पास धर्मशास्त्र के विभिन्न विद्यालयों के आधार पर स्थानीय कानूनों की अलग-अलग व्याख्याएँ हैं। एकरूपता लाने के लिए, 1775 में, ग्यारह पंडितों को हिंदू कानूनों का सारांश संकलित करने के लिए कहा गया था। 1778 तक यूरोपीय न्यायाधीशों के लाभ के लिए मुस्लिम कानूनों की एक संहिता भी संकलित की गई थी। 

1773 के रेगुलेटिंग एक्ट के तहत, एक नया सुप्रीम कोर्ट स्थापित किया गया, जबकि अपील की एक अदालत – सदर निज़ामत अदालत – भी कलकत्ता में स्थापित की गई। कलेक्टर भारतीय जिले का प्रमुख व्यक्ति होता था। उनका काम राजस्व और कर एकत्र करना और न्यायाधीशों, पुलिस अधिकारियों और दरोगाओं की मदद से अपने जिले में कानून और व्यवस्था बनाए रखना था।

कंपनी की सेना (The Company army)

भारत में, औपनिवेशिक शासन प्रशासन और सुधार के कुछ नए विचार लेकर आया। मुग़ल सेना घुड़सवार सेना (सवार: घोड़े पर प्रशिक्षित सैनिक) और पैदल सेना, यानी पेडल (पैदल) सैनिकों से बनी थी। मुगलों की सेना में घुड़सवार सेना का प्रभुत्व था। 18वीं शताब्दी में, परिवर्तन तब हुए जब अवध और बनारस जैसे मुगल उत्तराधिकारी राज्यों ने किसानों को अपनी सेनाओं में भर्ती करना और उन्हें पेशेवर सैनिकों के रूप में प्रशिक्षित करना शुरू कर दिया।

ईस्ट इंडिया कंपनी ने भी यही तरीका अपनाया, जिसे सिपाही सेना (भारतीय शब्द सिपाही से, जिसका अर्थ सैनिक है) के नाम से जाना जाने लगा। 19वीं सदी की शुरुआत में, अंग्रेजों ने एक समान सैन्य संस्कृति विकसित करना शुरू किया। सैनिकों को यूरोपीय शैली के प्रशिक्षण, अभ्यास और अनुशासन के अधीन किया गया जिसने उनके जीवन को पहले की तुलना में कहीं अधिक नियंत्रित किया।

निष्कर्ष (Conclusion)

ईस्ट इंडिया कंपनी एक व्यापारिक कंपनी से एक क्षेत्रीय औपनिवेशिक शक्ति में बदल गई थी। 19वीं सदी की शुरुआत में, नई भाप (steam) तकनीक का आगमन हुआ। 1857 तक कंपनी भारतीय उपमहाद्वीप के लगभग 63 प्रतिशत क्षेत्र और 78 प्रतिशत आबादी पर प्रत्यक्ष (direct) शासन करने लगी।

FAQ (Frequently Asked Questions)

ईस्ट इंडिया कंपनी क्या थी?

ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना 1600 में भारत से यूरोप में मसाले, चाय और विदेशी वस्तुओं के आयात के लिए की गई थी।

मैसूर के बाघ के नाम से किसे जाना जाता था?

टीपू सुल्तान को मैसूर के टाइगर के नाम से जाना जाता था।

प्लासी का युद्ध क्या था?

प्लासी की लड़ाई 23 जून 1757 को उत्तर-पूर्वी भारत में लड़ी गई थी। रॉबर्ट क्लाइव के नेतृत्व में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना, बंगाल के आखिरी नवाब सिराज-उद-दौला और उनके फ्रांसीसी सहयोगियों की सेना के खिलाफ आई थी।

आशा करता हूं कि आज आपलोंगों को कुछ नया सीखने को ज़रूर मिला होगा। अगर आज आपने कुछ नया सीखा तो हमारे बाकी के आर्टिकल्स को भी ज़रूर पढ़ें ताकि आपको ऱोज कुछ न कुछ नया सीखने को मिले, और इस articleको अपने दोस्तों और जान पहचान वालो के साथ ज़रूर share करे जिन्हें इसकी जरूरत हो। धन्यवाद।

Also read –

How, When and Where Summary in hindi

Class 8 CBSE NCERT Notes in hindi


पोस्ट को share करें-

Similar Posts

67 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *