virus explanation in hindi

Virus क्या होता हो, प्रकार, परिभाषा? | Virus explanation, details in hindi

पोस्ट को share करें-

Virus किसे कहा जाता है, क्या होता है एक virus, virus defination in hindi, virus की परिभाषा, virus ias notes in hindi, virus के प्रकार, virus के बारे में जानकारी.

आखिर एक virus क्या होता हैं?  क्या एक virus एक जीवित जीव है, या एक निर्जीव जीव? साथ ही virus कितने प्रकार के होते हैं? अगर आपके मन में भी ऐसे ही सवाल है, तो आज आप बिलकुल सही स्थान पर आए है। 

आज इस लेख में हम virus से जुडी कुछ ऐसी बाते जानने वाले है, जिनके बारे में जानने की जिज्ञासा सायद आपके भी मान में मौजूद हो। तो चलिए देर ना करते हुए आब हम जनते है virus से जुडी अद्भुत बाते, जिनके बारे में सयाद ही हो आपको मालूम।

आज जहां जीवन है, वहां वायरस पाए जाते हैं। और यह संभवतः तब से अस्तित्व में है, जब जीवित कोशिकाएं पहली बार विकसित हुई थीं। लेकिन चूंकि virus किसी प्रकार का जीवाश्म नहीं बनाते हैं, तो आज भी यह स्पष्ट नहीं है कि शुरू में किसी एक वायरस की उत्पत्ति कैसे हुई थी।

वायरस क्या है? (What is virus in hindi)

Virus पौधे, जानवर या बैक्टीरिया नहीं होते हैं। उन्हें आम तौर पर अपने ही kingdom में रखा जाता है। सख्त अर्थों में, विषाणुओं को जीव भी नहीं माना जाना चाहिए, क्योंकि वे free-living जीव नहीं होते हैं। वायरस reproduce नहीं कर सकते हैं और साथ ही एक मेजबान कोशिका के बिना metabolic प्रक्रियाओं को भी आगे नहीं बढ़ा सकते हैं।

एक virus एक अकोशिकीय यानि की acellular जीव होता है, जो की किसी बैक्टीरिया से लगभग 10 से लेकर 100 गुना तक छोटा हो सकता है, और आकार में यह लगभग 20-300 nm के हो सकते है। साथ ही वायरस विभिन्न प्रकार के जीवों को संक्रमित कर सकते हैं, जिनमें बैक्टीरिया, पौधे और जानवर भी शामिल हैं। और एक वायरस के संक्रामक, extracellular (कोशिका के बाहर) के रूप को “virion” कहा जाता है।

वायरस की परिभाषा (Definition of virus in hindi)

  • एक वायरस एक genetic कोड (या तो DNA या RNA) का एक छोटा संग्रह है, जो प्रोटीन कोट से घिरा हुआ होता है।
  • लेकिन ऊर्जा उत्पन्न करने या प्रोटीन को synthesize करने के लिए उनके पास स्वयं की metabolic मशीनरी की कमी होती है। 
  • वे केवल एक जीवित कोशिका के भीतर ही प्रजनन कर सकते हैं , और इसलिए वे obligate intracellular परजीवी हैं। 
  • वे मेजबान कोशिका के कार्यों को संभालते हैं, जिससे संक्रमण होता है।
  • एक virus किसी मेजबान के बाहर निष्क्रिय (crystallized रूप में) और उनके अंदर सक्रिय रूप में मौजूद होते हैं। 
  • और यह उन्हें एक जीवित और साथ ही निर्जीव इकाई के अनूठे मानदंडों में डालता है।

वायरस का इतिहास (History of virus in hindi)

फ्रांसीसी रसायनज्ञ और सूक्ष्म जीवविज्ञानी “Louis Pasteur” (1822-1895) ने किसी microscopes द्वारा पता लगाने के लिए एक बहुत ही छोटे pathogen का अनुमान लगाया था। और ऐसा इसलिए हुआ था, क्योंकि वह rabies बीमारी के कारणों का पता लगाने में असमर्थ हुए थे।

  • एक वायरस की जैविक प्रकृति के शुरुआती संकेत साल 1892 में रूसी वैज्ञानिक “Dmitry I. Ivanovsky” द्वारा किए गए अध्ययनों से आए थे।
  • तब डच वैज्ञानिक “Martinus W. Beijerinck” ने यह अनुमान लगाया कि वायरस एक नए प्रकार का संक्रामक एजेंट था।

तब Ivanovsky और Beijerinck दोनों ने ही पाया कि तंबाकू के पौधों की एक बीमारी एक एजेंट द्वारा प्रेषित की जा सकती है, जिसे बाद में “tobacco mosaic” वायरस कहा गया। फिर 20वीं शताब्दी की शुरुआत में, अंग्रेजी जीवाणुविज्ञानी “Frederick Twort” ने वायरस के एक समूह की खोज की जो बैक्टीरिया को संक्रमित करता है, जिसे अब “bacteriophages” कहा जाता है।

फिर साल 1931 में जर्मन इंजिनियर “Ernst Ruska” और “Max Knoll” द्वारा इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी के आविष्कार के बाद दुनिया के सामने किसी virus की पहली छवियां आई। जिसके बाद 20वीं सदी के second half तक कई वायरसों की खोज हुई और उनका documentation किया गया।

वायरस की संरचना (Virus Structure)

एक वायरस या तो रॉड के आकार का या फिर गोलाकार भी हो सकता है।

वायरस में प्रोटीन के एक कोट में DNA या RNA के एक या अधिक molecules होते हैं। और जब वायरस किसी मेजबान कोशिका के बाहर होता है, तो यह कोट आनुवंशिक उसके genetic सामग्री की रक्षा करता है।

तो आइए अब हम एक virus को अंदर से लेकर बाहर तक समझने की कोशिश करते हैं – 

  1. न्यूक्लिक एसिड (Nucleic Acid) : अंदर से शुरू करते हुए, आपको इनमे एक nucleic acid दिखाई देगा, जो या तो RNA या DNA हो सकता है। और न्यूक्लिक एसिड या तो single-stranded या double-stranded हो सकता है।
  1. प्रोटीन कोट (Protein Coat) : न्यूक्लिक एसिड के चारों ओर लगभग सभी viruses में एक प्रोटीन कोट मौजूद होता है। और यह या तो capsid या छोटी-छोटी units के रूप में मौजूद होगा।
  1. लिफाफा (Envelope) : कुछ viruses में एक envelope जैसा छेत्र भी मौजूद होता है, जो वे किसी कोशिका से बाहर निकलते ही प्राप्त करते हैं।

वायरस को कैसे वर्गीकृत किया जाता है? (virus classification)

शोधकर्ताओं का अनुमान है कि virus संक्रमण के मामले में किसी बैक्टीरिया को 10 से लेकर 1 तक पछाड़ देते हैं।

एक वायरस को विभिन्न मानदंडों जैसे की morphology, nucleic acid का प्रकार, उनके मेजबान, आदि के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है।

न्यूक्लिक एसिड प्रकार के आधार पर वर्गीकरण 
  • डीएनए वायरस (DNA) – यह single-stranded या double-stranded हो सकते हैं।
  • आरएनए वायरस (RNA) – यह single-stranded या double-stranded हो सकते हैं।
मेजबान प्रकार के आधार पर वर्गीकरण
  • इंसानों के वायरस
  • बैक्टीरिया के वायरस (bacteriophage)
  • जानवरों के वायरस
  • पौधों के वायरस 

वायरस के प्रकार (Types of virus in hindi)

ऊपर दिए गए दो वर्गीकरणों को एक साथ जोड़ा जा सकता है, जो उनके संबंधित मेजबानों में वायरस के प्रकारों और उनके कारण होने वाली बीमारियों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करेगा। इसके कुछ प्रकार निचे दिए गए है –

वायरस (family)उदाहरण/बीमारियों के कारणमेज़बान (host)Nucleic Acid
AdenoviridaeCanine hepatitis वायरस, सामान्य सर्दी के कुछ प्रकारमनुष्य, पशुDNA
HerpesviridaeEpstein-Barr वायरस, Herpes simplex वायरस, cytomegalo वायरस, Chickenpoxमनुष्य, पशुDNA
Rhino वायरस सामान्य जुकाममनुष्य DNA
PapoviridaeHuman papilloma वायरस मनुष्य DNA
PoxviridaeSmallpox, cowpox, monkeypoxमनुष्य, पशुDNA
Entero वायरस सामान्य जुकाममनुष्य, पशुRNA
ReoviridaeRotavirus, reovirusपौधे, जानवरRNA
Coronaviridaeमानव कोरोनावायरस, मर्स, सार्स, सामान्य सर्दीमनुष्य, पशुRNA
Picornaviridaeपोलियोवायरस, हेपेटोवायरस, पैर और मुंह रोग वायरस, एंटरोवायरसमनुष्य, पशुRNA
VirgaviridaeTobacco mosaic वायरस पौधेRNA
Flaviviridaeडेंगू वायरस, हेपेटाइटिस सी, पीला बुखार (yellow fever), जीका वायरसमनुष्य, पशुRNA
OrthomyxoviridaeInfleunza वायरस A, B, C
मनुष्य, पशुRNA
ParamyxoviridaeMeasles, mumps, rinderpest, canine distemperमनुष्य, पशुRNA
BunyaviridaeStem necrosis, California encephalitis, hantavirusपौधे, मनुष्य, जानवरRNA
FiloviridaeEbola, Marburg वायरस मनुष्य, पशुRNA
RhabdoviridaeRabies, vesicular stomatitisपौधे, जानवरRNA
HepeviridaeHepatitis Eमनुष्य RNA
RetroviridaeHIVमनुष्य, पशुRNA
CaulimoviridaeCaulimovirus, cacao shoot virusपौधेRNA
HepadnaviridaeHepatitis Bमनुष्यDNA

क्या एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल वायरस के खिलाफ किया जा सकता है?

क्युकी वायरस में बैक्टीरिया के समान components मौजूद नहीं होते हैं, इसलिए उन्हें एंटीबायोटिक दवाओं से नहीं मारा जा सकता है। हालाँकि एंटीवायरल दवाएं या टीके कई वायरल रोगों की गंभीरता को समाप्त या कम कर सकते हैं।

FAQ (Frequently Asked Questions)

दुनिया में पहली बार किस वायरस की खोज की गयी थी?

साल 1892 में दो  वैज्ञानिक “Dmitry I. Ivanovsky” और “Martinus W. Beijerinck” द्वारा पहली बार कसी एक वायरस की खोज की गयी थी, जिसे बाद में “Tobacco mosaic” वायरस का नाम दिया गया।

Common cold किस वायरस के कारण होता है?

यह बीमारी “adeno” वायरस के कारण होता है।

AIDS किस वायरस के कारण होता है?

यह जानलेवा बीमारी “retro” वायरस के कारण होता हो।

 आशा करता हूं कि आज आपलोंगों को कुछ नया सीखने को ज़रूर मिला होगा। अगर आज आपने कुछ नया सीखा तो हमारे बाकी के आर्टिकल्स को भी ज़रूर पढ़ें ताकि आपको ऱोज कुछ न कुछ नया सीखने को मिले, और इस article को अपने दोस्तों और जान पहचान वालो के साथ ज़रूर share करे जिन्हें इसकी जरूरत हो। धन्यवाद।

Also read –

Metaverse क्या है, जो बदल देगा इन्टरनेट की दुनिया

दुनिया का पहला मलेरिया वैक्सीन


पोस्ट को share करें-

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *